काश उन मामलों को मै ऐसे निपटाता !

आज राम सिंह को कारखाने के प्रबंधक पद से सेवा मुक्त हुए पूरा महीना बीत गया लेकिन पद पर रहते जो लोग उसके आगे पीछे घुमा करते थे वे आजतक मिलने भी नहीं आये जिन कारखाना मालिकों के फायदे के लिए राम सिंह दूसरो का बुरा करने तक में नहीं चूका उन मालिकों का भी कभी कोई फोन तक राम सिंह के पास नहीं आया | घर में अकेला बैठा राम सिंह अब अतीत में कारखाने में लिए गए अपने निर्णयों का विश्लेषण करने लगा | उस हर एक मामले के द्रश्य अब राम सिंह की दिखाई देने लगे जिनमे निर्णय करते वक्त राम सिंह ने मानवीय पक्ष दरकिनार करते हुए सिर्फ कारखाने का पक्ष देखा | आज राम सिंह को अपने द्वारा किये गए गए गलत निर्णयों का वीभत्स चेहरा नजर आने से वह अन्दर तक हिल चूका है और सोचता है कि उन मामलों में मानवीय पक्ष देखकर भी तो मै कोई निर्णय कर सकता था जैसे;-

१- कारखाने में काम करने वाली एक गर्भवती महिला प्रबन्धक राम सिंह के पास गर्भावस्था अवकाश लेने आती है लेकिन राम सिंह उससे कहता कि छुट्टी नहीं मिलेगी तुम्हारी जगह काम कौन करेगा ? इसलिए मै तुम्हे नौकरी से हटा कर तुम्हारी जगह किसी और की नियुक्ति कर देता हूँ | और राम सिंह उसे नौकरी से निकल देता है | महिला राम सिंह को बुरा भला कहकर कोसती हुई , बद-दुआएं देती , रोती हुई अपने घर जाती है |

उस घटना को याद कर आज राम सिंह सोचता है काश उस मामले को मैंने कुछ इस तरह निपटाया होता –

जैसे ही वह गर्भवती महिला राम सिंह के कक्ष में गर्भावस्था अवकाश का आवेदन लेकर प्रवेश करने के साथ अभिवादन करती है | और राम सिंह से अपनी छुट्टी की बात करती है |

राम सिंह – अच्छा आप आराम से छुट्टी कीजिए और आपके साथ काम करने वाली किसी सहकर्मी को अपना कार्य समझा दीजिए उसे आपका कार्य करने के बदले कम्पनी ओवर टाइम दे देगी जिससे उसकी भी कुछ आय बढ़ जायेगी और आपके अवकाश की वजह से कारखाने का कोई काम भी नहीं अटकेगा | और कोई दिक्कत हो तो मुझे बताइगा |

महिला राम सिंह को धन्यवाद देती हुई ख़ुशी ख़ुशी अपने को लौटती है |

२- कारखाने में मशीन पर काम करने वाले बनवारी का हाथ दुर्घटनावश मशीन में फंस गया जिसे डाक्टर ने ओपरेशन कर काट दिया था आज अस्पताल से छुट्टी होने के बाद बनवारी वापस कारखाने में काम पर लौटा है लेकिन राम सिंह ने यह सोचकर कि बनवारी एक हाथ कैसे मशीन चलाएगा उसकी तो अब कार्य क्षमता कम हो चुकी सो बनवारी को अपने कक्ष में बुलाकर कहता है

राम सिंह – देख बनवारी ! अब एक हाथ से तू मशीन तो चला नहीं सकता इसलिए तू कारखाने में किस काम का ? मैंने तेरी जगह दूसरा आदमी भर्ती कर लिया और तेरा हिसाब बनाने के लिए बोल दिया इसलिए ऑफिस में बाबू के पास जा और अपना हिसाब लेकर अपने घर चलता बन |

राम सिंह की बात सुनकर बनवारी रोंर लगता है ,राम सिंह की मिन्नते करता है गिड़गिडाता कि उसके बाल बच्चे बहुत छोटे है और हाथ काटने की वजह से उसे कही और जगह काम नहीं मिलेगा इसलिए उसे नौकरी से न निकला जाए लेकिन राम सिंह पर बनवारी के रोने पीटने का कोई असर नहीं पड़ता | और बनवारी राम सिंह को बद-दुआएं देता रोता हुआ अपने घर को रवाना होता है |

आज राम सिंह उस घटना को याद करने पर अपनी गलती का अहसास होता है और वह सोचता है काश बनवारी के मामले को मैंने इस तरह निपटाया होता –

अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद बनवारी कारखाने काम पर लौटता है सबसे पहले वह प्रबन्धक राम सिंह से मिलने उसके कक्ष में प्रवेश कर राम सिंह को अभिवादन करता है |

राम सिंह – अरे आओ आओ बनवारी ! बैठो और बताओ अब तुम्हारी तबियत कैसी है | भई तुम्हारा दुर्घटना में हाथ जाता रहा इसका मुझे बहुत अफ़सोस है तुम्हारी दुर्घटना के बाद मै कारखाने में कुछ और भी ऐसे उपाय करवा रहा हूँ ताकि इस तरह की दुर्घटना रोकी जा सके और तुम्हारी तरह किसी और श्रमिक को ये सब नहीं भुगतना पड़े खैर — अब तुम मशीन पर तो काम कर नहीं पावोगे इसलिए मैंने तुम्हारे काम पर अन्य श्रमिक को लगा दिया है और तुम्हारे लायक दूसरा काम तलाश लिया जो तुम एक हाथ से भी आसानी से कर सकते है | इससे कारखाने का कार्य भी प्रभावित नहीं होगा और तुम्हे भी कोई तकलीफ नहीं होगी | अब जावो और अपना नया कार्यभार संभालो | कोई दिक्कत परेशानी हो तो बेझिझक मुझे बताना |

और बनवारी खुश होकर राम सिंह को हार्दिक धन्यवाद देता हुआ उसके कक्ष से बाहर निकल अपने नए कार्य पर ख़ुशी ख़ुशी जुट जाता है |

ऐसे ही मामलों में लिए अनेक निर्णय आज पूर्व कारखाना प्रबन्धक राम सिंह की आँखों में घूम रहे है और उनके बारे में सोच सोच कर वह बैचेन हो उठता है पर अब बैचेन होने के सिवा कर भी तो क्या सकता है आखिर वो समय तो निकल चूका जब वो मानवता के लिए कुछ कर सकता है |

12 Responses to "काश उन मामलों को मै ऐसे निपटाता !"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.