कहीं सफर में जो गिर पड़े तो

कहीं सफर में जो गिर पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी
कभी जो आंशु निकल पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी

कभी दूर हम निकल पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी
छोड़ दुनिया हम निकल पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी

अभी दूर हो तुम्हे पता नहीं, पता नहीं है हकीकत हमारी
पास आये तो जान जाओगे, जान जाओगे महोब्बत हमारी,

कहीं सफर में जो गिर पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी
कभी जो आंशु निकल पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी

आज हो तुम भरी महफ़िल में, अभी कहाँ जरुरत तुम्हे हमारी
जो तन्हा पड़ोगे तो फिर रो पड़ोगे, तब याद आएगी महोब्बत हमारी,

अभी जरा हो तुम अँधेरे में, जो हुआ सवेरा तो आएगी याद हमारी
सफर जिंदगी का बड़ा सुहाना, सुहानी यादे आएँगी तुम्हे हमारी

बेसक भूल जाओ तुम, भूलने का गम नहीं
भूल कर भी कभी कभी, याद आएगी तुम्हे हमारी

हम चाहे कभी छोड़ दे दुनिया, याद आएगी तुम्हे हमारी
बहुत कठिन है सफर जिंदगी का, पड़ी मुश्किल तो आएगी याद हमारी

कही सफर में जो गिर पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी
कभी जो आंशु निकल पड़े तो, याद आएगी तुम्हे हमारी

सुल्तान सिंह “” जसरासर “”
m- 07742904141

9 Responses to "कहीं सफर में जो गिर पड़े तो"

  1. प्रवीण पाण्डेय   February 26, 2011 at 3:11 pm

    बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    Reply
  2. आप तो अभी आंसू निकलवा रहे हैं… मार्मिक..

    Reply
  3. ताऊ रामपुरिया   February 26, 2011 at 3:50 pm

    बहुत सुंदर रचना, आभार.

    रामराम.

    Reply
  4. राज भाटिय़ा   February 26, 2011 at 4:06 pm

    बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

    Reply
  5. डॉ॰ मोनिका शर्मा   February 26, 2011 at 5:07 pm

    बहुत सुंदर …..

    Reply
  6. Uncle   February 26, 2011 at 6:34 pm

    Nice.. Keep It Up Mr.Sultan singh

    Reply
  7. नरेश सिह राठौड़   February 27, 2011 at 7:35 am

    बहुत सुन्दर रचना है |

    Reply
  8. arganikbhagyoday   March 1, 2011 at 1:11 pm

    रोचक !

    Reply
  9. Pagdandi   March 2, 2011 at 7:36 am

    yad to aayegi tum dekhna yad to aayegi tumhe hamari

    aapki rachna acchi lagi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.