कन्वोकेशन गाउन मसले पर ईसाई समूह का बेमतलब प्रलाप

पिछले शुक्रवार को केन्द्रीय वन और पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश द्वारा एक दीक्षांत समारोह में कन्वोकेशन गाउन उतार देने के बाद देश में पहली बार छत्तीसगढ़ के घासीदास सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी ने २६ अप्रेल को होने वाले दीक्षांत समारोह में गाउन की जगह खादी का कुर्ता-पायजामा व बांस की टोपी पहनने का फैसला किया है जो एक स्वागत योग्य कदम है |
वही दूसरी और उच्च शिक्षण संस्थानों में दीक्षांत समारोहों के दौरान गाउन पहनने की परम्परा को उपनिवेशवाद का बर्बर स्मृति चिन्ह बताने पर उड़ीसा के एक ईसाई समूह ने केन्द्रीय मंत्री जयराम रमेश से माफ़ी मांगने की मांग की है | इस समूह को रमेश का बयान पोप और विश्वभर के ईसाईयों के खिलाफ लगता है और यह समूह मानता है कि केन्द्रीय मंत्री द्वारा यह कहना – ” कन्वोकेशन गाउन औपनिवेशिक परिपाटी है और आजादी के ६० बाद भी हम इसके क्यों चिपके है | मध्य युगीन पादरियों और पोप की तरह के परिधानों के बजाय हम साधारण कपडे पहनकर दीक्षांत समारोह में शामिल क्यों नहीं हो सकते | ” उनकी धार्मिक भावनाओं पर आघात है |
अब बताईये केन्द्रीय मंत्री द्वारा सिर्फ यह कहना कि -” मध्य युगीन पादरियों और पोप की तरह के परिधानों के बजाय हम साधारण कपडे पहनकर दीक्षांत समारोह में शामिल क्यों नहीं हो सकते | ” में कौनसी ऐसी बात नजर आती है जिसमे उन्होंने पोप और इसाईयों का अपमान किया हो ? यह तो कोई भी व्यक्ति कह सकता है कि -वो पोप , किसी धर्माचार्य या किसी शंकराचार्य जैसे कपडे क्यों पहने ? इसमें किसी का कैसा अपमान ?
पर हमारे यहाँ छोटी -छोटी बातों में भी में अल्प संख्यक कोई न कोई बात अपनी धार्मिक भावनाओं से जोड़कर फालतू का बखेड़ा कर देते है कि उनकी धार्मिक भावनाएं आहात हो गई |
इस तरह की ये कुछ छोटी छोटी बातें ही इन अल्पसंख्यकों की असली मानसिकता उजागर कर देती है कि ये अब भी ये किसी न किसी तरह बहुसंख्यकों पर अपनी परम्पराएं व अपना एजेंडा लादने के चक्कर में रहते है | इन्ही छोटी छोटी बातों की प्रतिक्रिया में अनावश्यक आपसी तनाव बढ़ता है | आज आजादी के साठ वर्ष बाद अंग्रेजों द्वारा शुरू की गई किसी परम्परा को हम मानने से इंकार करते है तो ईसाई समुदाय को क्यों आपत्ति होनी चाहिए ? इन्हें भी भी हमारी भावनाएं समझनी चाहिए थी और केन्द्रीय मंत्री के खिलाफ कोई भी व्यक्तव्य देने से बचना चाहिए था | इस ईसाई समूह द्वारा मंत्री से माफ़ी मांगने की मांग करने वाला वक्तव्य देना इस समूह की संकुचित व् घटिया मानसिकता का धोतक व बचकाना नहीं तो ओर क्या हो सकता है ?

ताऊ डाट इन: ताऊ पहेली – 68 विजेता : उडनतश्तरी
वो कौम न मिटने पायेगी
ललितडॉटकॉम: प्रख्यात चि्त्रकार डॉ डी. डी.सोनी से एक साक्षात्कार-अंतिम किश्त—–ललित शर्मा
मेरी शेखावाटी: विकल्प ही विकल्प है मूल्य आधारित सोफ्टवेयरो के

9 Responses to "कन्वोकेशन गाउन मसले पर ईसाई समूह का बेमतलब प्रलाप"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.