एलोवेरा ब्लॉग ट्रैफिक के लिए भी है खुराक

एलोवेरा ब्लॉग ट्रैफिक के लिए भी है खुराक

पिछले कई दिनों से एलोवेरा प्रोडक्ट ब्लॉग पर रामबाबू सिंह एलोवेरा (ग्वार पाठे )के स्वास्थ्य वर्धक गुणों पर प्रकाश डाल रहे है वे बता रहे है कि एलोवेरा (ग्वार पाठे )मानव शरीर से बिमारियों निकालकर उसे चुस्त दुरुत बनाने के साथ ही लम्बे समय तक जवान बनाए रखता है | लेकिन एलोवेरा में मैंने एक गुण और का पता लगाया है कि एलोवेरा सिर्फ मानव शरीर के लिए ही फायदेमंद नहीं है बल्कि यह हमारे ब्लॉग पर ट्राफिक बढाकर ब्लॉग के लिए भी टॉनिक का कार्य कर सकता है |
आईये आज हम चर्चा करते है एलोवेरा के इसी गुण पर –
रामबाबू सिंह ने ये एलोवेरा प्रोडक्ट के नाम से अभी कुछ दिन पहले ही ब्लॉग मेरे से ही बनवाया था और लगभग दो महीने पहले इस ब्लॉग को कस्टम डोमेन पर ले जाया गया इन दो महीनो में इस नए नवेले ब्लॉग पर आने पाठकों में गूगल से सबसे ज्यादा पाठक आये और इस ब्लॉग की इतने कम समय में अलेक्सा रेंक 5,89,745 हो गयी जो अपने आप में काफी महत्वपूर्ण है क्योकि अभी तक बहुत से पुराने हिंदी ब्लोग्स है जिन पर नियमित लिखने के बाद भी उनकी अलेक्सा रेंक यहाँ तक नहीं पहुँच पाई | एक नए ब्लॉग पर इतने बढ़िया ट्राफिक आने कारणों का पता लगाने की जिज्ञासा के चलते सोचा कि देखते है इस ब्लॉग पर गूगल सर्च से आने वाले पाठकों की सर्च का रुझान क्या है ?
रामबाबू के ब्लॉग पर गूगल से आने वाले पाठकों द्वारा किये गए सर्च के विश्लेषण से मुझे पता लगा कि वहां आने वाले पाठकों में से ९०% पाठक एलोवेरा के बारे में सर्च करके आये थे | बस उसी वक्त मुझे लगा क्यों न एलोवेरा पर एक पोस्ट लिखकर ज्ञान दर्पण पर भी गूगल से कुछ और पाठक हासिल किए जाए | और इसी बात को ध्यान में रखते हुए कि एलोवेरा ब्लॉग पर ट्राफिक बढ़ाने के लिए एक बढ़िया की-वर्ड है पिछले दिनों २३ जनवरी २०१० को हमने भी ज्ञान दर्पण पर एलोवेरा के नाम से एक पोस्ट ठेल दी और इन आठ दिनों में देखा कि वाकई इस एलोवेरा नाम के की-वर्ड ने ब्लॉग ट्राफिक बढ़ाकर ब्लॉग के लिए भी टॉनिक का कार्य किया है | पिछले आठ दिनों में ज्ञान दर्पण पर गूगल सर्च से आने वाले पाठकों द्वारा सर्च किये मुख्य दस की-वर्ड्स में से एलोवेरा भी शामिल है |
तो जाहिर है एलोवेरा शारीरिक स्वास्थ्य के साथ साथ ब्लॉग के लिए भी एक बढ़िया टॉनिक है , एक बढ़िया की-वर्ड जो गूगल से आसानी से पाठक झटक कर आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ा सकता है |

एलो वेरा के बारे में महापुरुषों के विचार |
ताऊ पहेली-59

12 Responses to "एलोवेरा ब्लॉग ट्रैफिक के लिए भी है खुराक"

  1. काजल कुमार Kajal Kumar   January 31, 2010 at 11:15 am

    वाह! एलोवेरा के पट्ठे न होकर ये तो गूगल के पट्ठे निकले.

    Reply
  2. ग्वारपाठे को सलाम!

    Reply
  3. मनोज कुमार   January 31, 2010 at 2:11 pm

    बहुत अच्छी रचना।

    Reply
  4. मेरे ब्लॉग पर भी पंकज अवधिया जी की अतिथि पोस्ट है ग्वारपाठा/घृतकुमारी पर। और बहुत पाठक खींचती है वह!

    Reply
  5. डॉ. मनोज मिश्र   January 31, 2010 at 2:38 pm

    बढ़िया..

    Reply
  6. Udan Tashtari   February 1, 2010 at 12:43 am

    ये भी खूब रही.. :)एलोवेरा का कमाल!

    Reply
  7. ताऊ रामपुरिया   February 1, 2010 at 5:38 am

    लगता है आजमाना पडेगा.

    रामराम.

    Reply
  8. chankya   July 17, 2010 at 8:50 pm

    le bhai likh deta hu comments par yaar ek baat hai Follower 156 , par comments kul jama , 7 comments.

    Reply
  9. हरकीरत ' हीर'   October 28, 2011 at 8:58 am

    सोच रही हूँ एलोवरा पर एक पोस्ट लिख ही दूँ ….

    :))

    Reply
  10. sai nath   October 6, 2012 at 8:02 pm

    good topic good topic

    Reply
  11. surendar singh bhati tejmalta   November 21, 2012 at 3:03 pm

    wah kya bat hai humko bhi yahi ilaj karna padega jara hume bhi bataye please

    Reply
  12. Rajneesh K Jha   December 20, 2015 at 2:23 pm

    प्रभावी !!!
    शुभकामना
    आर्यावर्त

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.