एक स्त्री की मान रक्षा के लिए, इस योद्धा ने किये थे ग्यारह युद्ध

एक स्त्री की मान रक्षा के लिए, इस योद्धा ने किये थे ग्यारह युद्ध

क्या आप सोच सकते है कि कोई शासक किसी स्त्री की मान रक्षा के लिए एक नहीं ग्यारह युद्ध कर सकता है| यही नहीं ये युद्ध भी उस योद्धा को अपने निकट रिश्तेदारों से करने पड़े और आखिर उस योद्धा को अपने प्राणों का बलिदान देना पड़ा| जी हाँ ! बात कर रहे है राव शेखाजी की| राव शेखाजी ने ही एक स्त्री की मान रक्षा के लिए अपने ही निकट सम्बन्धियों से ११ लड़ाईयां लड़ी और अपने प्राणों का बलिदान दिया| इतिहास में दर्ज यह कहानी कुछ इस प्रकार है-

Shekhawati और Shekhawat वंश के प्रवर्तक महाराव शेखाजी अपने सहयोगियों के साथ अपनी गादी पर बैठे थे कि उनके दरबार में एक विधवा स्त्री ने प्रवेश किया , विधवा ने अपनी ओढ़नी के पल्लू में थोडी सी मिट्टी बाँध रखी थी जिसे उसने आते ही महाराव शेखा जी के चरणों में डाल कर शेखाजी के ही निकट सम्बन्धी झुन्थर के गौड़ राजपूतों Gaur Rajputs द्वारा उस पर किया गया जुल्म व उनके हाथों अपने पति के मारे जाने की मार्मिक कहानी सुना उन उद्दंड गौडों को सजा देकर अपने सम्मान की रक्षा करने की अपील की| झुंथर शेखावाटी के दांता ठिकाने से ६ मील पुर्वोतरी कोण में था| वहां का शासक कोलवराज गौड़ बड़ा घमंडी, उद्दंड और राहबेधी राजपूत था वह अपने नगर के समीप ही एक तालाब खुदवा रहा था जिसका नाम कोलालाब तालाब रखा गया था| कोलवराज गौड़ ने तालाब के खुदाई कार्य को गति देने के लिए नियम बना रखा था कि तालाब के पास के रास्ते से जो भी राहगीर गुजरेगा उसे चार टोकरी मिट्टी खोदकर निकालनी होगी| एक बार एक कछवाह राजपूत अपनी ससुराल से अपनी नव वधु को लेकर तालाब के पास से गुजर रहा था| कोलवराज गौड़ के आदमियों ने उसे भी मिट्टी निकालने हेतु बाध्य किया, जिस पर उसने अपनी व अपनी पत्नी के हिस्से की चार-चार टोकरियाँ मिट्टी खोद कर सहर्ष निकाल दी| लेकिन कोलवराज गौड़ के आदमियों ने उसकी पत्नी से भी जबरदस्ती मिट्टी निकलवाना चाहा और निकट आकर बहली (डोली) का पर्दा उठाने लगे| यह सब देख उस राजपूत का खून खौल उठा और उसने अपनी पत्नी की और बढ़ने वालों का सिर काट दिया व शेष गौडों से वीरता पूर्वक लड़ता हुआ खुद भी मारा गया| उसकी विधवा हो गई पत्नी ने अपने बहलवानो की सहायता से अपने पति का वहीं कोलोलाब तालाब पर दाह संस्कार कर तालाब की कुछ मिट्टी अपनी ओढ़नी के पल्लू से बाँध महाराव शेखा जी के पास उसका अपमान करने व पति की हत्या करने वाले दुष्टो को सजा दिलवाने के लिए चली आई |

झुंथर के गौड़ शेखाजी के निकट रिश्तेदार थे किन्तु उनकी उद्दंडता व उच्च्श्र्न्ख्ला जब मर्यादा की सीमा लाँघ गयी| उन्होंने एक स्त्री जाति की मान-मर्यादा का विचार न कर एक स्त्री से जबरन रथ से उतारकर उससे बेगार लेना चाहा| उसके पति द्वारा विरोध करने पर अपने संख्या बल के जोर से उसे मौत के घाट उतार दिया| इन सब बातों को सुनकर Rao Shekhaji का धैर्य जाता रहा| अन्याय के खिलाफ उनकी भुजाएं फड़क उठी| उन्होंने तय कर लिया कि बेशक झुंथर के गौड़ उनके रिश्तेदार है पर एक स्त्री कि मान रक्षा के लिए क्षत्रिय आदर्शों का पालन करते हुए वे झुंथर पर आक्रमण कर आततायी कोलवराज गौड़ को अवश्य दंड देंगे |

और उन्होंने बिना समय गवाएं अपने 300 विश्वसनीय सैनिको के साथ झुंथर पर हमला कर कोलवराज गौड़ को मार गिराया और उसका मस्तक काट कर अपनी राजधानी अमरसर पहुँच उस विधवा के पास भेज उसे दिया हुआ अपना वचन पूरा किया |कोलराज का कटा सिर शेखाजी की आज्ञा से अमरसर गढ़ के सदर द्वार पर लटका दिया गया| ऐसा करने का उद्देश्य उद्दंड और आततायी लोगो में भय पैदा करना था ताकि भविष्य में ऐसा अनैतिक कार्य करने का कोई दुस्साहस ना करे|

शेखाजी के इस कार्य की गौडाटी में जबरदस्त प्रतिक्रिया हुई| गौड़ राजपूतों ने इसे अपना जातीय अपमान समझा और अनेक मनचले गौड़ योद्धाओं ने अमरसर पहुँच अपने मृत सरदार का कटा मस्तक लाने के लिए साहसिक प्रयत्न किये लेकिन वे असफल रहे| बदले की आग में गौडों ने शेखाजी के कई गांवों में लूटपाट की| जिससे शेखाजी व गौडो के मध्य लगातार पांच साल तक संघर्ष चलता रहा| इन पांच सालों में गौडो व शेखाजी के मध्य ग्यारह युद्ध हुए आखिर सभी गौड़ राजपूतों ने घाटवा नामक स्थान पर इक्कठा होकर शेखाजी को निर्णायक युद्ध के लिए ललकारा|

आखिर वि.स.1545 बैशाख शुक्ल तृतीया गुरुवार को घाटवा में शेखाजी व गौडो के मध्य भयंकर युद्ध हुआ जिसमे शेखाजी ने विजय तो प्राप्त करली लेकिन युद्ध में गहरे घाव लगने के वजह से वे वीर गति को प्राप्त हुए | इस प्रकार एक स्त्री की मान रक्षा के लिए महाराव शेखाजी ने पांच साल अपने ही सम्बन्धियों से संघर्ष करते हुए अपना बलिदान दे दिया |

Rao Shekha History in Hindi, Rao Shekhaji ka itihas, History of Shekhawats and Shekhawati in Hindi, History of Gaur Rajput, Ghatwa war story in Hindi

14 Responses to "एक स्त्री की मान रक्षा के लिए, इस योद्धा ने किये थे ग्यारह युद्ध"

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.